कितना ख़तरनाक होता है स्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis)– जान के दंग रह जाएंगे (कैसे बचे)

आज हम आपको बताने जा रहे है – क्या होता है स्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis)? क्यों होता है और कैसे बचा जा सकता है स्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis) से. हमारी वेबसाइट भारत की सबसे उम्दा स्वास्थ्य सम्बन्धी वेबसाइट्स में से है. हम आपके लिए लाते रहते है ऐसी चीज़े जिसे पढ़ कर आप स्वस्थ रह सकते है. हमे उम्मीद है आपको पिछले कुछ पोस्ट्स – अनुलोम विलोम( सीखे अनुलोम विलोम करना – जान के दांग रह जाएंगे इसके अद्भुत फायदे ) , योग के फायदे ( सुबह उठ कर 15 मिनट योग करने के ये 7 चमत्कारी फायदे), पुरुष बांझपन ( पुरुषो में बांझपन के 3 मुख्य कारण – कैसे बढाए शुक्राणु 1 हफ्ते में ) से कैसे बचे, कपालभाती कैसे करे ( क्या सच में होते है कपालभाती के ये लाभ? – पढ़िए और सीखिए कपालभाती ) , मधूमेह से बचे ( जानिए कैसे होता है डायबिटीज(Diabetes) – इससे पहले हो जाए देर (मधुमेह का बचाव) ) – वाले तमाम लेख पसंद आए होंगे, अगर आपने वो post अभी तक नहीं पढ़े है तो अभी पढ़े. और हाँ मित्रो अगर आर्टिकल अच्छा लगे तो शेयर करने में शर्माना मत. दोस्तों के साथ बांटो, परिवार वालो को दिखाओ, क्युकी सभी स्वस्थ रहेंगे तभी देश तरक्की करेगा और आगे बढेगा. तो आज के विषयस्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis) के बारे में बात करते है :-

क्या होता है स्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis)?

स्लीप पैरालिसिस एक ऐसी भयानक स्तिथि होती है जब आप सोते हुए जाग रहे होते है, मगर हिल डुल नहीं पाते. जिसने ये अनुभव किया है वही समझ सकता है की कितना खतरनाक होता है स्लीप पैरालिसिस. आप आराम से सोते है. अचानक आपकी आँख खुलती है और आपको भूत प्रेत जैसी कोई डरावनी चीज़ दिखती है. वो आकृति मात्र वहम होता है. आप लगता है वो आक्रति आपके पास आ रही है धीरे धीरे, आपकी चारपाई की तरफ. आप हिलने डूलने की कोशिश करते है मगर आप विफल रहते है. आपका महसूस होता है वो आकृति जोर जोर से हंस रही है और आप और डर जाते है. ऐसे में आप कोशिश करते है की आप जोर से चिल्लाये किसी को बुला के मदद ले – आप मुह खोलते है मगर आपके मुंह से आवाज़ नहीं आती. ये दृश्य कल्पना कर पाना भी मुश्किल है उन लोगो के लिए जिन्होंने स्लीप पैरालिसिस का अनुभव कभी नहीं किया. वो परछाई सच में बहुत डरावनी होती है.

eyogguroo
Sleep Paralysis

स्लीप पैरालिसिस (Sleep Paralysis) के कारण

तेजी से आंखों के आंदोलन (आरईएम) के दौरान मस्तिष्क के ज्वलंत सपने आते हैं, जबकि शरीर की मांसपेशियों को अनिवार्य रूप से बंद कर दिया जाता है। सोते समय शरीर, मांसपेशियों को स्थानांतरित करने में असमर्थ हैं ताकि व्यक्ति अपने शरीर के साथ सपने को बाहर करने में सक्षम न हों। जब एक व्यक्ति आरईएम समाप्त होने से पहले जागता है तो स्लीप पक्षाघात होता है। व्यक्ति जागरूक हो जाएगा, लेकिन शरीर की चाल की क्षमता अभी तक वापस नहीं की गई है।

कई चीजें नींद पक्षाघात के एपिसोड पर लाना सकती हैं। उदाहरण के लिए, सोपन अभाव, कुछ दवाएं और कुछ सो विकार, जैसे स्लीप एपनिया ट्रिगर हो जाती है। इसके अलावा, नींद पक्षाघात के साथ मरीजों में आमतौर पर सो जाता है.

पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी द्वारा 2011 में एक अध्ययन के मुताबिक, सामान्य जनसंख्या में 7.6 प्रतिशत नींद पक्षाघात के साथ समस्याएं हैं चिंता और अवसाद जैसे मानसिक विकार वाले लोग नींद पक्षाघात के अनुभव की संभावना रखते हैं। अध्ययन के अनुसार, मानसिक विकारों वाले 31.9 प्रतिशत लोगों का अनुभव एपिसोड है।

कैसे बचे स्लीप पैरालिसिस से?

आप अपने आप पर नियंत्रण कर के स्लीप पैरालिसिस से मुक्ति पा सकते है. अगर आप सच में स्लीप पैरालिसिस से उबरना चाहते है तो आपको जरुरत है meditation यानी ध्यान लगाने की. यही एक तरीका है जिससे आप इस परेशानी से बाहर आ सकते है. रोज सुबह उठने के पश्चात किसी खुली जगह पे जाए और ध्यान लगाने की कोशिश करे. शुरू में 5 मिनट 10 मिनट से शुरू करे धीरे धीरे यह अवधि 20 से 30 मिनट तक ले के जाए. आप जल्द ही स्लीप पैरालिसिस से उबार जाएंगे. ध्यान लगा कर होगा यह की आप अपने दिमाग पर नियंत्रण करना सीख लेंगे. अगली बार जब आपको ऐसी आकृतिया दिखेंगी या कोई डरावना सपना आएगा तो आप अपने दिमाग पर नियंत्रण कर पाओगे उसे समझा पाओगे की यह केवल एक सपना है सच्चाई नहीं.

दोस्तों उम्मीद है आपको इन् घरेलु नुस्खो से राहत मिलेगी. अगर आपको हमारा post पसदं आये तो इसको शेयर जरुर करे. स्वास्थ्य से संभंधित और जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट को सेव या बुकमार्क करे सकते है. हमने अपनी वेबसाइट पर योग से सम्बंधित काफी कुछ डाला हुआ है आप उन्हें पढ़ सकते. हमसे जुड़े रहिये, स्वस्थ रहिये मस्त रहिए.

Our Score
Our Reader Score
[Total: 1 Average: 5]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ajax LoaderPlease wait...

Subscribe For Latest Updates

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.