रेकी से कैसे सुधरते हैं रिश्ते

आज कल रिश्ते सुधारने की जरूरत सब को है ! रिश्ते रेकी (Reiki)की मदद से कैसे सुधरते हैं ,ये समझने के लिए हमें तीन बातें समझनी पड़ेंगी !

१.रिश्ते बिगड़ते ही  क्यों हैं ?

२.रेकी क्या है ?

३.रेकी कैसे मदद करती है हमारी रिश्ते सुधारने में ?

रिश्ते बिगड़ते ही क्यों  हैं!

१.शारीरिक बीमारी

शारीरिक बीमारी सब से बड़ी वजह है,रिश्ते बिगड़ने की क्यूंकि उसकी वजह से हम अपने में ही उलझे रहते हैं और दूसरों के साथ समय नहीं व्यतीत  कर पाते !चिड़चिड़ापन रहता है ,कुछ अच्छा नहीं लगता ! इसलिए हम दूसरों से दूर होते जाते हैं ! दूसरों की उमीदें भी हम से खास नहीं रहती ! जिसकी वजह से हम में हीन भावना आ जाती है !

२. सहनशीलता का कम होना

सब की सहनशीलता अलग अलग होती है ! सहनशीलता की कमी की वजह से हम दूसरों को पूरी तरह से सुनते ही नहीं ,बच्चों का मस्ती करना तक अच्छा नहीं लगता और भी कई बातें जो परिवार में ,काम करने की जगह पर,दोस्ती में होती हैं, सहन नहीं कर पाते और  सब से दूर रहने लगते हैं ! दूरी धीरे धीरे  रिश्तों  को खत्म कर देती है !

३. आत्मविश्वास का अधिक या कम होना 

आत्मविश्वास  कम होना या अधिक होना दोनों ही हमारे रिश्तों में दरार डालते हैं !यदि आप का आत्मविश्वास अधिक है,तो आप किसी की तारीफ कभी नही कर पाएंगे!और न ही आप को किसी की सफ़लता में ख़ुशी होगी !और सब से बड़ी बात किसी से कुछ सीख नहीं पाएंगें ! आत्मविश्वास की कमी इन्सान को किसी के सामने आने से ही रोक देती है ! किसी के साथ बातचीत न करनी पड़े यही कोशिश रहती है! कोई निर्णय नहीं ले सकते न ही किसी और की किसी मामले में मदद कर सकते हैं इस तरह दोनों ही रिश्तों को बिगाड़ते हैं !

४.तनाव

तनाव सबसे बड़ा कारण हैं रिश्ते बिगड़ने का! और सब से बड़ी बात यह हैं , कि प्रभावित इन्सान की कोई गलती भी नहीं होती ! वह खुद ही परेशान होता है !और जाने अनजाने दूसरों को भी तकलीफ देता रहता है ! तनावग्रस्त इन्सान चाह के भी रिश्ते नहीं सम्भाल सकता !

५.नकरात्मक विचारधारा

यह विचारधारा एक प्रकार कि रुकावट है !  प्रभावित इन्सान इसकी वजह से न तो खुद कुछ निर्णय लेता है ,न ही किसी और को आसानी से निर्णय लेने देता है ! हर काम में उसे असफलता दिखती है ! नकरात्मक विचारों के कारण किसी को कुछ भी बताने से भी डरता है !

६.अन्य तत्व

और कई बातें हैं जिन की वजह से रिश्ते बिगड़ते हैं, जैसे गुस्सा ,थकान ,नफरत,दूसरों से जलन, वित्तीय परिस्थितियाँ इत्यादि कई वजह हैं रिश्ते बिगड़ने की !

ये सब जो रिश्ते बिगड़ने कि वजह  हैं ये क्यों होते हैं ?

ये सब शारीरिक बीमारी,आत्मविश्वास का संतुलन में न होना ,गुस्सा ,नफरत,आलस,जल्दी थकना,नकरात्मक विचारधारा ,तनाव सब का कारण एक ही है ,ऊर्जा की कमी ! सब कुछ तब होता है जब हमारे शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है ! जिसे प्राण ऊर्जा भी कहते हैं ! और वही ऊर्जा ब्रह्माण्ड में भी होती है !

रेकी

रेकी क्या है और कैसे मदद करती है रिश्ते सुधारने में ?

रेकी क्या है? पहले यह जानते हैं ! रेकी स्पर्श चिकित्सा है ! एक प्रकार की प्राकृतिक चिकित्सा जो इस विचार पर काम करती है कि हर शारीरिक,मानसिक बीमारी की वजह ऊर्जा का शरीर में कम होना है ! रेकी में ब्रम्हाण्ड से ऊर्जा ले कर शरीर में ऊर्जा का संतुलन किया जाता है ! इस प्रकार रेकी से इन सब समस्याओं का ,जो रिश्तों को बिगाड़ रही हैं , समाधान हो जाता है ! और रिश्ते सुधर जाते हैं! रेकी क्या है ,अगर आप विस्तार से समझना चाहते हैं तो  रेकी जादू या एक प्रकार की चिकित्सा  पर जरुर नजर डालेरेकी ( REIKI )जादू या एक प्रकार की चिकित्सा ) !

रेकी के अन्य फायदे

  • जब आप अपने घर में रेकी करते हैं तो सकरात्मक ऊर्जा आप के घर में आती है ! जिससे घर कि नकरात्मक ऊर्जा निकलती है !
  • रेकी करने से आप अपनी पुरानी बुरी यादों से छूट जाते हैं ! जिस कि वजह से आपका मन दूसरों के लिए साफ होता है और दूसरों को अपने जीवन में अपनाने लगते हैं !
  • रेकी करने से जब शांति मिलती है तो कार्य करने कि योग्यता बढ़ती है ! जिस से वित्तीय हालत सुधरने के भी रास्ते खुलते हैं !
  • रेकी से ऊर्जा का संतुलन कर के हम बीमारी का इलाज करते हैं तो जीवन से दवाईयों कि मात्रा भी कम हो जाती है!

मेरी  सलाह

ये तो आप जान ही गये हैं कि रेकी , स्पर्श चिकित्सा है जो साधारण होने के साथ साथ असरदार भी है ! रेकी से अपने जीवन में संतुलन लायें और अपने जीवन को अपनों के साथ ख़ुशी ख़ुशी जियें !क्यूंकि हम जीवन में खुश रहने आये हैं !

Our Score
Our Reader Score
[Total: 1 Average: 5]

HEMLATA PAWA

Hemlata Pawa is a Reiki Grand Master . She has spirit, Dedication in work, passion for Reiki. She wants to spread reiki all over India. She gives all credit to reiki healing for her peace full life.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ajax LoaderPlease wait...

Subscribe For Latest Updates

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.