आपकी सेहत के लिए अमृत है घड़े का पानी

आज की भागती हुई लाइफ में किसी के पास इतना समय नहीं है कि वह अपनी सेहत का भी ध्यान रख सकें। लोगों के दिन की शुरूआत फास्ट फूड से शुरू होती है और ठंडा पानी पीने के लिए तो फ्रिज हैं ही। लेकिन वह यह नहीं जानते कि इससे उनकी सेहत को कितना नुकसान हो रहा है। सेहत के प्रति उनकी लापरवाही शरीर को कई बीमारियों का घर बना देती है। अगर हम आपको कहे कि एक ऐसी चीज है जिससे आप बिना बीमार पड़े ठंडे पानी का मजा ले सकते हैं। तो शायद आपको यकीन नहीं होगा। लेकिन आप मिट्टी के घड़े का पानी पीकर इसका मजा ले सकते हैं। और सबसे बड़ी बात मटके का पानी पीने से आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद भी है।

जी हां गरीब का फ्रिज माने जाने वाला मटके का पानी सेहत के लिए अमृत सामान होता है। इसमें रखा पानी पीने से आप कई तरह की बीमारियों को दूर करने में मदद मिलती है। आइए जानें गर्मियों में घड़े का पानी पीने से आपकी सेहत को कैसे फायदा मिलता है। यह जानने से पहले कि घड़े का पानी पीने से क्‍या फायदा होता है? यह जान लेते हैं कि घड़े में पानी ठंडा कैसे रहता है।

घड़े में पानी कैसे रहता है ठंडा

मिट्टी के घड़े में छोटे-छोटे छेद होते हैं। हालांकि यह छेद इतने छोटे होते है कि इन्‍हें आप देख नहीं देख सकते है। जल का कूल होना वाष्‍पीकारण पर निर्भर होता है। जितना वाष्‍पीकरण ज्‍यादा होगा, उतना ही जल भी कूल होगा। इन छोटे छेदों से पानी बाहर निकलता रहता है। गर्मी के कारण पानी वाष्‍प बनकर उड़ जाता है, और वाष्‍प बनने के लिए वह गर्मी मटके के पानी से लेता है। इस पूरी प्रोसेस में घड़े का टेम्परेचर घट जाता है और घड़े का जल ठंडा रहता है।

घड़े का पानी पीने के लाभ

तापमान के अनुसार ढल जाता है पानी

कई लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती है कि गर्मियों में किस तापमान का पानी पीना चाहिए। लेकिन अगर आप मटके का पानी पीते हैं तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्यों।कि मटका यह काम बखूबी से करता है। मटका पानी को मौसम के आधार पर ठंडा रखता है, जिससे शरीर को नुकसान नहीं होता है।

इम्यूनिटी होती है मजबूत

कई छोटी-छोटी बीमारियों को दूर करने के लिए इम्यू निटी को मजबूत करना बहुत जरूरी होता है। जब मिट्टी के घडे में पानी रखा जाता है तो उसमें मिट्टी के गुण आ जाते हैं, जिससे इम्यूइनिटी मजबूत होती है। और आपके शरीर में मौजूद विषैले तत्वे शरीर से बाहर हो जाते हैं।

गला नहीं होता है खराब

फ्रिज का पानी पीने से अक्सर गला खराब हो जाता है। यह तब और भी नुकसान करता है जब बच्चे  बाहर धूप से आने के बाद तुरंत फ्रिज का पानी पी लेते हैं। ठंडा जल हम पी लेते हैं लेकिन बहुत अधिक ठंडा होने की वजह से यह गलाऔर शरीर के अंगों को तेजी से ठंडा कर शरीर को नुकसान पहुंचाता है। लेकिन घड़े का जल पीने से ऐसा नहीं होता है। जी हां अगर आप मिट्टी के घड़े का पानी पीते हैं तो आपका गला सही रहता है और धूप से आकर इसका पानी पीने से आपको कभी बीमारी नहीं घेरेगी।

पेट के लिए है रामबाण

फ्रिज का पानी पीने से आपको पेट से जुड़ी कई तरह की बीमारियां परेशान कर सकती है क्योंकि फ्रिज में रखा पानी पीने में बेशक ठंडा होता है लेकिन इसकी तासीर गर्म होती है जो वात को बढ़ाती है। और वात बढ़ने से आपको पेट से जुड़ी समस्यााओं को सामना करना पड़ सकता है। जबकि घड़े के पानी पीने से वात दोष नहीं बढ़ता है और पेट जल्दी  साफ होता है और पेट में गैस की समस्या  भी परेशान नहीं करती है।

एसिडिटी दूर भगाए

मिर्च-मसालेदार या तले हुआ खाना खाने के बाद फ्रिज का पानी पीने से एसिडिटी की समस्‍या होने लगती है। जबकि मिट्टी के घड़े के पानी में मिट्टी के क्षारीय तत्व होते हैं। ये तत्व पानी में मिलकर पीएच को बैलेंस करते हैं, जो ना केवल शरीर को एसिडिटी से बचाते हैं बल्कि कई अन्‍य परेशानियों को भी दूर करता है।

प्रेग्‍नेंसी में अमृत

मां और होने वाला बच्‍चा दोनों हेल्‍दी रहे इसके लिए गर्भवती महिलाओं को अपनी सेहत का ध्‍यान रखना बहुत जरूरी है। गर्भवती महिलाओं को घड़े का पानी पीने की सलाह दी जाती है। घड़े का पानी ना केवल उनकी सेहत के लिए अच्‍छा होता है बल्कि मिट्टी की सौंधी-सौंधी खुशबू के कारण यह पानी गर्भवती महिलाओं को बहुत पसंद भी आता है।

थकान दूर करें

दिनभर के काम के बाद थकान होना बहुत ही आम है। खासतौर पर गर्मी के दिनों में गर्मी के कारण बहुत ज्‍यादा थकावट म‍हसूस होती है। लेकिन घड़े का पानी पीकर इसे दूर किया जा सकता है। जी हां अगर गर्मी के कारण आपको थकावट महसूस होती है तो फ्रिज की जगह घड़े का पानी पिएं। ऐसा करने से आपकी थकान दूर हो जाएंगी। साथ ही इससे आपके सिर दर्द की समस्‍या भी दूर होती है।

Our Score
Our Reader Score
[Total: 1 Average: 5]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ajax LoaderPlease wait...

Subscribe For Latest Updates

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.