ये हैं डिप्रेशन (Depression) को दूर करने के 6 आसान और देसी नुस्खे

डिप्रेशन एक ऐसा रोग है जो कभी भी और किसी भी बात पर किसी व्यक्ति को हो सकता है। ये एक ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति शारीरिक तौर पर चलता फिरता तो है, लेकिन मानसिक तौर पर बिल्कुल लुप्त हो चुका होता है। यानि कि उसकी सोचन समझने की शक्ति, स्मरण शक्ति, किसी चीज पर विचार करने का नजरिया और अपना अंर्तबोध धीरे धीरे विलुप्त होता रहता है। हालांकि ऐसा कतई नहीं है कि डिप्रेशन सिर्फ आम लोगों को ही होता है। बल्कि इस रोग की चपेट में बड़े बड़े बॉलीवुड स्टार्स भी आ चुके हैं। जिसका उन्होंने बड़ी बेबाकी से खुलासा भी किया है। अक्सर डिप्रेशन में जाने का प्रमुख कारण कोई हादसा या फिर कोई ऐसी चीज जिसकी आपको उम्मीद ना हो और वह हो जाए होता है। अगर आप खुद डिप्रेशन की गिरफ्त में हैं या फिर आपका कोई जानने वाला इस रोग की गिरफ्त में हैं तो आपको अब टेंशन  (Stress) लेने की जरा भी जरूरत नहीं है। आज हम आपको डिप्रेशन से मुक्ति पाने के कुछ आसान और देसी उपाय बता रहे हैं।

आइए जानते हैं क्या हैं डिप्रेशन को दूर करने के आसान और देसी उपाय—

1) सांसों को लंबा लें

Deep Breathing

डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति जब सांस ले तो उसे कोशिश करनी चाहिए कि वह छोटी छोटी सांसे लेने के बजाय लंबी और गहरी सांस लें। ऐसा इसलिए क्योंकि डिप्रेशन की पीड़ितों की दिल की धड़कन अपेक्षाकृत तेज हो जाती है। ऐसे में लंबी और गहरी लेने से उन्हें काफी आराम मिलता है। इसके साथ ही अगर आपको कोई हादसे या बुरी खबर मिले तो आप तुरंत कम से कम 10 लंबी लंबी सांसे लें। इससे आप हार्ट बीट सामान्य होने के साथ ही आप आराम भी महसूस करेंगे।

2) डर को करें छूमंतर

डर को करें छूमंतर

डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति को डर बहुत सताता है। उसे हर छोटी छोटी बात पर डर लगता है। लेकिन आपको ये समझने की जरूरत है कि अगर आप ऐसा करते हैं तो आपकी स्थिति और भी ज्यादा खतरनाक हो सकती है। इसलिए अपने डर पर जितना हो सके काबू रखें। अपने मस्तिष्क को रिलैक्स महसूस कराएं। अगर ऐसा मुमकिन नहीं हो पा रहा है तो नियमित एक्सरसाइज करें, योग करें और खाली वक्त में किताबें पढ़ें। ऐसा कुछ दिनों तक करने से ही आपको काफी आराम मिलेगा।

3) सुबह-शाम सैर करें

walking

आपकी दिनचर्या चाहे कितनी भी व्यस्त हो लेकिन सुबह शाम सैर का वक्त जरूर निकालें। अगर आपके घर के आसपास कोई पार्क है तो उसमें जाकर टहलें। लेकिन अगर कोई पार्क या गार्डन नहीं है तो आप सड़क किनारे भी सुबह और शाम आधा घंटा घूमें। इसके अलावा आप सप्ताह में छुट्टी के दिन मंदिर, गुरुद्धारा जैसी किसी पवित्र स्थल पर जा सकते हैं। अगर आप किसी और सैर सपाटे में रुचि है तो आप वो काम भी कर सकते हैं। इससे आपको मानसिक शांति के साथ साथ शारीरिक आराम भी मिलेगा।

4) मन पसंसद गाने सुनें

music

अगर एक सीमित मात्रा में गाने सुने जाएं तो ये हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा मूलमंत्र साबित हो सकते हैं। गाने सुनने मस्तिष्क की कोशिकाओं को आराम मिलने के साथ ही आत्मिक शांति भी होती है। डिप्रेशन से जूझ रहा व्यक्ति अगर कुछ वक्त तक अपने मनपसंद गाने सुनता है तो उसे काफी आराम मिलेगा। अगर आप ​फील्ड की जॉब करते हैं या फिर आपको बहुत ज्यादा बोलने का जॉब है तो गाने सुनने से आपको काफी आराम मिलेगा। लेकिन याद रखें की गाने ज्यादा तेज आवाज में ना सुनें।

5) नींद से ना करें समझौता

sleep

बिजी लाइफस्टाइल और काम के दबाव के चलते भूलकर भी अपनी नींद के साथ समझौता ना करें। आपको चाहे कितना भी जरूरी काम हो, 7 से 8 घंटे की नियमित नींद लें। क्योंकि नींद की कमी से जिन लोगों को डिप्रेशन, अवासाद या फिर सिर में दर्द जैसी शिकायत नहीं भी होती है उन्हें भी इसकी चपेट में आ जाते हैं। अगर आपको नींद नहीं आती है तो आप सोने से पहले नॉर्मल पानी से स्नान कर सकते हैं। इसके अलावा ग्रीन टी या फिर कोई हर्बल टी का सेवन भी कर सकते हैं। आप चाहें तो अपनी छत पर हल्के हल्के कदमों से 10 से 15 मिनट घूम भी सकते हैं।

6) संतुलित डाइट लें

balanced diet

संतुलित डाइट का सेवन करने वाले लोग ना सिर्फ डिप्रेशन बल्कि अन्य स्वास्थ्य रोगों से भी दूर रहते हैं। हालांकि डिप्रेशन के रोगियों को संतुलित डाइट लेने की और भी ज्यादा जरूरत होती है। अपनी डाइट में ताजे फल, सब्जियां और हरी सब्जियों को शामिल करें। अगर आप नॉन वेजिटेरियन हैं तो आप अपनी डाइट में सप्ताह दें कम से कम 1 से 2 बार अण्डे और मांस को भी शामिल कर सकते हैं। वो कहते हैं कि अगर आप अच्छा खाओगे तो मन भी अच्छा ही होगा। इसके साथ ही अपनी डाइट से प्रोटीन को कम ना होने दें।

Our Score
Our Reader Score
[Total: 1 Average: 2]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ajax LoaderPlease wait...

Subscribe For Latest Updates

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.